How to Open New College (Affiliation Norms and Process)

Dear Friend,


हमारी कंपनी जोकि Wish Outsourcing And Consultancy Pvt. Ltd. (Wish Technologies) है । , जो पिछले 23 साल से नया कॉलेज/स्कूल खुलवाने के लिए परामर्श देने का कार्य करती है , बहुत सारे नामी कॉलेज तथा यूनिवर्सिटी हमारे क्लाइंट है 


जैसे : Amity University, GD Goyenka University, Madhav University, Arunachal University, Tripura University, B.N. Mandel University, North East Frontier University, BN Mandel University


हमारी कंपनी में 60 से ज्यादा एक्सपर्ट पूरे हिंदुस्तान से जुड़े हुए हैं , हमारे साथ बहुत से एक्सपर्ट ऐसे भी है जो AICTE, PCI, INC,CCIM के द्वारा की जाने वाली इंस्पेक्शन में इंस्पेक्टर के रुप में कार्य कर चुके हैं / रिटायर्ड है | यह एक्सपर्ट प्रतिष्ठित तथा अपने फील्ड में माहिर होते हैं, इन्हें PCI / AICTE आदि के नवीनतम नियमों तथा प्रक्रिया की संपूर्ण जानकारी होती है । यह आपको आगे आने वाली परेशानियों से पहले ही सतर्क / समाधान करने में मदद करते है

 

जब भी आप नया कॉलेज खोलते हैं तो सैकड़ों डाक्यूमेंट्स कागजात सही फॉर्मेट/ स्वरूप/Format में लगाने होते हैं ना होने पर आपकी फाइल पर ऑब्जेक्शन/ शोकॉज / EVC आदि लग जाते हैं ।


कई बार एक व्यक्ति को बार-बार प्रयास करने पर भी स्कूटनी(Scrutiny), डेफिशियेंसी (Deficiency) लेटर, शो कॉज नोटिस (Show Cause Notice), अपील आदि से गुजरने के बाद 3 से 5 साल लग जाते हैं कॉलेज/स्कूल के लिए अप्रूवल लेने के लिए । और उस समय पर हर साल का जो नुकसान होता है अगर उसे समझा जाए तो हर साल लगभग 1 करोड़ रुपए + बैंक ब्याज + भवन रख-रखाव .. जो कागजों में कमी की वजह से Session ना मिलने की वजह से रह गया ।

 

जहां लाखों रुपया आपने बिल्डिंग प्रयोगशाला तथा कागजात पर लगाया है कितना अच्छा हो कि वह कागजात को जमा करवाने से पहले सही व्यक्ति चेक करें या कागजात बनवाने में आपकी मदद करें । इसलिए एक्सपर्ट की मदद ली जाती है गलती होने पर या तैयारी पूरी ना होने पर या सही डॉक्यूमेंट ना लगने पर यह फीस बर्बाद हो जाती है जबकि यही सारा कार्य अगर एक्सपर्ट की देखरेख में किया जाए तो पैसों के अंदर बहुत बचाव हो सकता है ।

 

एक्सपर्ट के द्वारा आपके कॉलेज में आकर : 


कागजात को चेक करना/ Document Verification

बिल्डिंग को चेक करना/Infrastructure Verification

जो आप की वर्तमान स्थिति है से लेकर कॉलेज खोलने तक कितना खर्चा होगा तथा बिल्डिंग तथा कागजों में क्या-क्या बदलाव करना होगा / Gap Analysis

क्या आप के कागजात/Building सही हैं जैसा कि नियमानुसार चाहिए आदि